उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार कमाल खान की मौत हो गई है। 61 वर्षीय कमाल खान को शुक्रवार सुबह करीब साढ़े सात बजे हार्ट अटैक आया। वह अपने पीछे पत्नी रुचि और बेटे अमन को छोड़ गए हैं। खान एनडीटीवी के एग्जीक्युटिव एडिटर थे। पत्रकारिता में शानदार योगदान के लिए उन्हें रामनाथ गोयनका और राष्ट्रपति के हाथों गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार मिला था।

कमाल खान 22 साल की उम्र में पत्रकारिता करने लगे थे। वह 61 साल के थे। बीते 3 दशकों से पत्रकारिता कर रहे थे। उनका निधन अचानक हुआ, जिससे हर कोई स्तब्ध है। कमाल खान ने रात तक रिपोर्टिंग की।

जब वह रात में 9 बजे प्राइम टाइम पर नजर आए तो वह बिल्कुल ठीक नजर आ रहे थे। उन्हें कोई समस्या नहीं थी। उन्हें देखने से भी नहीं लग रहा था कि कोई स्वास्थ्य संबंधी परेशानी है। अचानक सुबह कमाल खान के निधन की खबर मिली तो सब हैरान हो गए। फील्ड पर कमाल खान के साथ काम करने वाले, देर रात तक उनके साथ रहने वाले पत्रकार भी स्तब्ध हैं।

Leave a Reply

error: Content is protected !!