ब्यूरो डेस्क | कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र पूरा देश लॉक डाउन है. कोरोना संक्रमण को ख़त्म करने और लॉक डाउन को नियंत्रण करने के लिए सरकार प्रयासरत है, लगातार कोशिशें जारी हैं ताकि किसी नागरिक को असुविधा का सामना न करना पड़े.

आपको बता दें कि गाजीपुर जिले में रविवार को कोरोना के 19 और नए मामले सामने आए हैं। जिसे लेकर अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 122 तक पहुंच गई है। इसमें से 34 मरीजों ठीक भी हो चुके हैं। जबकि 88 मरीज अब भी एक्टिव हैं। जिले के कोरोना प्रभारी डॉ. उमेश कुमार ने बताया कि रविवार को 19 और कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं।

इनमें से पन्द्रह एक ही गांव नसीरपुर सुरवत कासिमाबाद तहसील के हैं और एक जमानिया तहसील के सैचनपुर, देवकली गांव में दो, बिरनों ब्लाक के आगापुर पारा गांव में दो व्यक्तियों में कोरोना पाजिटीव मिला है।

बढ़ते कोरोना मामलों के बिच उत्तर प्रदेश सरकार के प्रमुख सचिव ने राहत देने वाली खबर दी है. रविवार को प्रेस वार्ता के दौरान प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, श्री अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि “इस संक्रमण से घबराने की जरूरत नहीं है। बड़ी संख्या में लोग उपचारित होकर घर जा रहे हैं। 95% केसेज में कोई काॅम्प्लिकेशन नहीं होती हैं, केवल 5% में काॅम्प्लिकेशन तभी होती हैं, जब लोग विलम्ब से अपनी जांच करवाते हैं.”

प्रमुख सचिव के इस स्टेटमेंट से ये जाहिर होता है, अब हमने कोरोना पर नियंत्रण कर लिया है लेकिन यह एक संक्रामक बीमारी है, जो किसी को भी हो सकती है। यदि किसी को यह बीमारी होती है तो उनके प्रति अपने मन में कोई दुर्भावना न लाएं बल्कि उनकी मदद करें, तत्काल संबंधित चिकित्साधिकारी को सूचित करें. साथ ही साबुन और पानी से हाथ धोते रहें, मुंह और नाक को मास्क, रूमाल, दुपट्टे या गमछे आदि से ढक कर रखें, साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग (2 गज की दूरी) का पालन करें, इस समय यह बहुत आवश्यक है.

Leave a Reply