T20 World Cup 2022 का आयोजन अगले महीने ऑस्ट्रेलिया में होगा। इससे पहले ICC ने कुछ नियमों में बदलाव किया है। इस नियमों का क्रिकेट पर कुछ बड़ा असर भी पड़ सकता है। 1 अक्टूबर से ये नियम लागू होंगे और टी20 वर्ल्ड कप भी इन्हीं नियमों के आधार पर खेला जाएगा। सौरव गांगुली की अगुवाई वाली पुरुष क्रिकेट समिति की सिफारिशों की पुष्टि के बाद नियमों में बदलाव किए गए हैं। वैसे ICC द्वारा समय-समय पर बड़े बदलाव क्रिकेट में किए जाते हैं लेकिन इस बार आठ नियमों बदलाव किया गया है। कुछ नियम ऐसे हैं जो शायद कुछ क्रिकेटर्स को पसंद नहीं आएंगे। शायद इन नियमों को लेकर आगे कंट्रोवर्सी भी पैदा हो सकती है।

टी-20 में विकेट गिरने के बाद बल्लेबाज को 90 सेकेंड के अंदर पहली गेंद के लिए तैयार होना होगा। नही हुआ तो आउट माना जाएगा।

अब कैच आउट होने पर दूसरे खिलाड़ी को नहीं मिलेगी स्ट्राइक।

कोविड के कारण ICC ने गेंद पर थूक लगाने पर बैन लगाया था। अब ये नियम आगे भी जारी रहेगा।

अगर शॉट खेलते हुए बल्लेबाज का बैट या शरीर पिच से बाहर चला जाता है तो उस पर रन नहीं माना जाएगा। इस गेंद को डेड बॉल दे दिया जाएगा। अगर कोई गेंदबाज ऐसा काम जबरदस्ती करेगा तो फिर नो बॉल दे दिया जाएगा।

फील्डिंग के समय कोई खिलाड़ी जानबूझकर गलत तरीके से हिलता है तो बल्लेबाज को पांच रन पेनाल्टी के रूप में दिए जाएंगे।

अब मांगडिंग को सामान्य रन आउट ही माना जाएगा।

आपने देखा होगा जब भी कोई बल्लेबाज गेंदबाज के क्रीज तक पहुंचने से आगे बढ़ता है तो गेंदबाज थ्रो के जरिए उसे रन आउट करता है। अब ये नियम नहीं रहेगा। अब इस बॉल को ही डेडबॉल करार दे दिया जाएगा। अब गेंदबाज ये काम नहीं कर सकता है।

टी-20 में एक टीम को तय समयानुसार 20 ओवर फेंकने होते हैं। अगर ऐसा नहीं होता है तो फिर फील्डिंग टीम को एक अतिरिक्त फील्डर 30 गज के अंदर लाना होगा। अब ये ही नियम वनडे में भी लागू कर दिया गया है। ये नियम आईसीसी मेंस क्रिकेट वर्ल्ड कप सुपर लीग 2023 के बाद से लागू होगा।

Leave a Reply

error: Content is protected !!