गाज़ीपुर। एम0ए0एच0 इण्टर कॉलेज ग़ाज़ीपुर में चल रहे ग्रीष्मकालीन शिविर 2022 के सातवें दिन अर्थात दिनाँक 01.06.2022 दिन बुधवार को स्पर्धा ‘मुशायरा व कवि सम्मेलन’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ग़ाज़ीपुर जनपद के जिला पूर्ति अधिकारी (DSO) व हिन्दी साहित्य के सशक्त हस्ताक्षर कुमार निर्मलेन्दु का इस्तक़बाल कॉलेज के प्रधानाचार्य मु0 ख़ालिद अमीर ने माल्यार्पण कर व अजय कुमार बिन्द ने स्वागत गीत से किया।

छात्र आबिद ने सुप्रसिद्ध शायर डॉ0 राहत इंदौरी साहब की शायरी उनके ही अंदाज़ में पढ़कर इंदौरी जी का साक्षात दर्शन करा दिया।

मुख्य अतिथि कुमार निर्मलेन्दु छात्र-छात्राओं के प्रस्तुति की प्रशंसा की। विशेष रूप से विद्यार्थियों के माहौल व कार्यक्रम के मुताबिक आर्टिकल चयन करने की कला को सराहा। उन्होंने हमारे जीवन में सहित्य के महत्व को बताते हुए कहा कि ‘पहले प्यार बना होगा तब संसार बना होगा’ तथा अपने बेहतरीन कलाम ‘बात बन जाती तभी लेकिन/मुझे कहना नहीं आया/तुझे सुनना नहीं आया’ , ‘रहा मैं शूल गिनने में, सुमन चुनना नहीं आया’, ‘एक पेड़ चांदनी लगाया है आँगन में, फूले तो आ जाना एक फूल मांगने’ आदि इस अंदाज़ में पढ़ा कि पूरा महफ़िल गीतों की खुशबुओं से सुगंधित हो उठा।

कॉलेज के प्रधानाचार्य ख़ालिद अमीर ने अपने सम्बोधन में मुख्य अतिथि के बारे में बताया कि वह न केवल एक अधिकारी हैं बल्कि एक अच्छे इंसान भी हैं जो अपने ड्यूटी निभाते हुए साहित्य की भी संज़ीदगी से सेवा करते हैं। उन्होंने कुमार निर्मलेन्दु कृत महावीर प्रसाद द्विवेदी पुरस्कार से पुरस्कृत चर्चित पुस्तक ‘मगधनामा’ व ‘कश्मीर-इतिहास और परम्परा’, ‘कौशाम्बी’, ‘प्रयागराज और कुम्भ’, ‘प्रेमचंद- जीवन, दृष्टि और संवेदना’, ‘दिनकर- एक पुनर्विचार’, आदि की चर्चा की।

कॉलेज के सम्मानित विज्ञान के अध्यापक शहाब शमीम ने चुटकुला पेश किया जिससे श्रोताओं के हँस-हँसकर पेट फूल गये तथा क्रीड़ाध्यापक आकाश कुमार सिंह ने शायरी व अंग्रेजी प्रवक्ता मुर्शीद अली ने गीत पेश कर सबका दिल जीत लिया।

खेल प्रतियोगिता में विजेता फैसल सलीम व टीम तथा उपविजेता शुभम व टीम की मेडल व शील्ड देकर सम्मानित किया गया।

प्रतियोगिता में अजय बिन्द ने प्रथम, यासिर अहमद ने द्वितीय, मंजूरी ख़ातून ने तृतीय एवं मो0 अबदुल्लाह, राज़ीक हसन, प्रियांशी मौर्या, सोनम यादव, नाज़िया परवीन ने सांत्वना स्थान प्राप्त किया।

कार्यक्रम के दौरान शम्स तबरेज़ खां, शाहजहां खां, तस्नीम फ़ारूक़ी, अबुल कैश, मनोज कुमार, मु0 कमाल, अफजल सुल्तान, मनोज कुमार यादव, सुनील कुमार प्रजापति, अमरजीत बिन्द, लालमन बिन्द, फ़िरोज़ आदि लोग मौजूद थे।

कार्यक्रम के निर्णायक ज़ीशान हैदर, मुर्शीद अली व इश्तियाक हुसैन थे। संचालन करते हुए डॉ0 लईक अहमद सिद्दीकी ने पूरे महफ़िल को जोश की मशाल जलाते हुए शुरू से अन्त तक समां बाँधे रखा।

Leave a Reply

error: Content is protected !!