राइफल क्लब में सांसद आदर्श ग्राम योजना की बैठक बुधवार को हुई। इसमें भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना सांसद आदर्श ग्राम योजना की समीक्षा की गई। बैठक में जिलाधिकारी एमपी सिंह ने निर्देश दिया कि आदर्श गांव आदर्श गांव की तरह होना चाहिए। शासन की सभी योजनाएं यहां आदर्श के रूप में लागू की जाएं।

बैठक में परियोजना निदेशक बालगोविंद शुक्ला ने बताया कि यह योजना 11 अक्तूबर 2014 को राष्ट्रनायक जयप्रकाश नारायण के जन्मदिन पर आरंभ की गई थी। गांव के निर्माण एवं विकास का एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम है जिसमें सांसद अपने संसदीय क्षेत्र में वित्तीय वर्ष में एक गांव का चयन करते हैं।

जिले में 2014 से 19 तक छह गांव चयनित किए गए। इनमें पांच ग्राम दुल्ल्हपुर शंकर सिंह, नायकडीह, देवा और जमुआंव उपरवार मनोज सिन्हा द्वारा एवं डेढ़गांवा भरत सिंह की ओर से चयनित किए गए थे। इनमें 14-19 तक चयनित ग्राम पंचायतों को सभी कार्यक्रमों में संतृप्त किया जा चुका है। 2019-24 तक के कार्यकाल में दो गांव का चयन किया गया है। विकासखंड जखनिया में रेहटी मालीपुर एवं विकासखंड देवकली से नारी पचदेवरा। भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं में आने वाली धनराशि से इन गांव में संपूर्ण निर्माण एवं विकास कार्य कराना है। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्ता, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी हेमंत राव, जिला पूर्ति अधिकारी कुमार निर्मलेंदु, उपायुक्त मनरेगा गोपालकृष्ण चौधरी आदि अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!