उत्तर प्रदेश में शनिवार को स्थानीय प्राधिकारण निर्वाचन क्षेत्रों से विधान परिषद की 27 सीटों के लिए मतदान संपन्न हुआ. प्रशासन के तरफ से कहा गया कि मतदान निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ लेकिन समाजवादी पार्टी इस बात से इत्तेफाक रखती हुई नज़र नहीं आ रही है.

समाजवादी पार्टी के मुख्यालय से जारी बयान में अखिलेश यादव ने कहा था कि भाजपा ने लोकतंत्र को सत्ता के ‘डबल इंजन’ से कुचलने का काम किया है और विधान परिषद में जबरन बहुमत पाने के लिए सभी नैतिक और लोकतांत्रिक मान्यताओं को ताक पर रख दिया.

उन्होंने दावा किया कि बीडीसी, प्रधान, जिला पंचायत सदस्यों को मतदान करने से जगह-जगह रोका गया और सत्ता संरक्षित भाजपा के दबंग लोगों एवं सरकारी तंत्र द्वारा विभिन्न मतदान केंद्रों पर बूथ कैप्चरिंग करने, भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में वोट देने के लिए मतदाताओं को धमकाने जैसी गंभीर शिकायतें मिली हैं.

खैर ये सभी आरोप समाजवादी पार्टी के तरफ से लगाये गये. अब गाजीपुर से बसपा सांसद अफजाल अंसारी ने भी एमएलसी चुनाव के मतदान प्रक्रिया पर गंभीर आरोप लगाये हैं. देखिये ये रिपोर्ट:

शनिवार को यानि एमएलसी चुनाव के मतदान के दिन गाजीपुर का एक विडियो सामने आया, विडियो सादात क्षेत्र का बताया गया, विडियो कुछ महिलाएं मतदान प्रक्रिया पर आरोप लगते हुए नज़र आ रही थी.

गाजीपुर के जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह इन आरोपों को सिरे से ख़ारिज किया है.

जिलाधिकारी ने कहा कि आरोप लगाया गया था कि वहां कोई महिला कार्मिक थी लेकिन जाँच में पाया गया की वहां कोई महिला कार्मिक थी ही नहीं, उन्होंने कहा कि ये उन लोगों के आपसी रंजिश का मामला है जो एक दुसरे के ऊपर आरोप प्रत्यारोप लगाया गया. खैर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रिय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने तो ये भी कह दिया कि ये धन बल का चुनाव है……

“आसमानों से फ़रिश्ते जो उतारे जाएँ 
वो भी इस दौर में सच बोलें तो मारे जाएँ”
– उम्मीद फ़ाज़ली

Leave a Reply

error: Content is protected !!