लखनऊ | उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में हार के बाद समाजवादी पार्टी एमएलसी चुनाव में अपनी साख बचाना चाहती है लेकिंग विधानसभा चुनाव में सपा ने जहाँ से क्लीन स्वीप किया था वहां भी उसके प्रत्यासी भाजपा के सामने नतमस्तक होते हुए दिखाई दे रहे हैं. बुधवार को समाजवादी पार्टी के चार उम्मीदवारों ने अपना नामांकन वापस ले लिया, जिसके चलते मिर्जापुर, हरदोई और बदायूं की सीट पर भाजपा का कब्जा तय हो गया। इन सीटों पर भाजपा के अलावा और कोई प्रत्याशी मैदान में नहीं बचा है।

स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र से एमएलसी की 36 में से सात सीटों पर भाजपा का कब्जा हो गया है। इसकी आधिकारिक घोषणा बृहस्पतिवार को होगी। इन सीटों पर भाजपा के प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित होंगे। समाजवादी पार्टी ने मिर्जापुर से रमेश सिंह यादव, हरदोई से रजीउद्यीन और बदायूं से सनोद शाक्य को अपना उम्मीदवार बनाया था। वहीं गाजीपुर से भी सपा उम्मीदवार भोलानाथ शुक्ला ने अपना नाम वापस ले लिया जिससे भाजपा उम्मीदवार की राह आसान हो गई। गाजीपुर में अब भाजपा उम्मीदवार विशाल सिंह चंचल के अलावा निर्दल उम्मीदवार मदन सिंह ही मैदान में बचे हैं। 

उधर, अलीगढ़ में सपा उम्मीदवार जसवंत सिंह यादव का पर्चा खारिज हो गया जिससे भाजपा उम्मीदवार ऋषिपाल का निर्विरोध चुना जाना तय हो गया। अलीगढ में सपा ने भाजपा पर प्रस्तावक को गायब करवाने का आरोप भी लगाया था. इससे पहले 22 मार्च का नामांकन पत्रों की जांच में एटा-मैनपुरी-मथुरा की दो सीटों और बुलंदशहर की एक सीट पर सपा के उम्मीदवार का पर्चा निरस्त हो गया था, जिसके चलते भाजपा उम्मीदवारों का इन तीनों सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया था। इसकी आधिकारिक घोषणा बृहस्पतिवार को की जाएगी। खैर एटा में भी सपा के नेताओ पर हमले की खबर आई थी. कुल सात सीटें ऐसी हैं जहां चुनाव नहीं होगा। बृहस्पतिवार को नाम वापसी का अंतिम दिन है, ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि कुछ और प्रत्याशी नाम वापस ले सकते हैं।

दूसरी तरफ बुधवार को विधान परिषद की 6 अन्य सीटों पर हुए नामांकन पत्रों की जांच हुई जिसमें पांच उम्मीदवारों का नामांकन रद्द कर दिया गया। अब इन छह सीटों पर कुल 20 प्रत्याशियों के नामांकन वैध पाए गए। इसमें गोरखपुर-महाराजगंज और बलिया सीट पर सपा और भाजपा आमने सामने है। यानी इन दोनों सीटों पर दो-दो प्रत्याशी के नामांकन वैध पाए गए हैं। इसके अलावा गोंडा और बस्ती-सिद्घार्थनगर सीट के लिए तीन-तीन प्रत्याशी मैदान में हैं। फैजाबाद सीट के लिए चार प्रत्याशी और देवरिया सीट के लिए 6 प्रत्याशी मैदान में हैं। यहां 25 मार्च को नाम वापसी का अंतिम दिन है।   

वहीँ समाजवादी के राष्ट्रिय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर गुंडागर्दी का आरोप लगाया है.

Leave a Reply

error: Content is protected !!