लखनऊ / योगी सरकार बनते ही यूपी में माफियों पर सख्ती फिर से शुरू हो गई। मुख्तार के करीबी हरविंदर सिंह उर्फ जुगनू वालिया के घर की बुधवार को कुर्की की गई। आरोपी के खिलाफ चिकचिक रेस्त्रां संचालक जसविंदर सिंह उर्फ रोमी की हत्या करवाने का मुकदमा दर्ज किया गया था। वारदात के बाद पुलिस ने शूटर समेत साजिश में शामिल चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। वहीं, जुगनू फरार था। जिसकी गिरफ्तारी के लिए डीसीपी मध्य ने 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। आरोपी की तलाश में दबिश दी जा रही थी। इस बीच आलमबाग पुलिस ने जुगनू के घर पर कुर्की किए जाने का नोटिस भी लगाया था। फिर भी आरोपी हाजिर नहीं हुआ।

वर्ष 2019 में कपड़ा व्यापारी अमनप्रीत सिंह की उनकी दुकान में गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। इस वारदात में जुगनू वालिया और उसके भाई सोनू वालिया का नाम सामने आया था। पुलिस ने शूटर, सोनू वालिया और जुगनू को गिरफ्तार कर लिया था। जुगनू ने कोर्ट से जमानत ले ली थी। वहीं, अगस्त 2020 में तत्कालीन पुलिस कमिश्नर सुजीत पाण्डेय ने अपराधियों के खिलाफ चलाए गए अभियान में धारा 14 (ए) की कार्रवाई करते हुए जुगनू के पांच लग्जरी कारों के साथ ही सरोजनीनगर स्थित उसका फ्लैट जब्त कर लिया था।

इंस्पेक्टर के मुताबिक जुगनू वालिया के सामने नहीं आने पर उसकी सम्पत्ति कुर्क करने का नोटिस भी जारी किया गया था। बुधवार को आलमबाग कोतवाली की टीम जुगनू के चन्दरनगर स्थित मकान पर पहुंची थीं। आरोपी का घर पर कोई नहीं था। ऐसे में मोहल्ले वालों को पुलिस की तरफ से की जा रही कुर्की की कार्रवाई के बारे में बताया गया। जुगनू के मोहल्ले के पांच लोगों के साथ प्रशासनिक अधिकारियों के सामने वीडियोग्राफी कराई गई। घर का कुछ सामान जब्त किया गया।

Leave a Reply

error: Content is protected !!