गाजीपुर की मुहम्मदाबाद विधानसभा से भाजपा विधायक और प्रत्याशी अलका राय ने सोमवार को नामांकन दाखिल किया।राय ने अपने विधानसभा क्षेत्र में दो ध्रुवीय राजीनीति लड़ाई होने की बात करते हुए कहा कि उनकी लड़ाई गुंडे और माफियाओं से है।

मीडिया से बात करते हुए अलका राय ने बताया कि उनकी विधानसभा क्षेत्र में लड़ाई एसपी और बीजेपी के बीच है। उन्होंने इस बात को साफ किया कि उनकी लड़ायी अपराधियों के खिलाफ है। बताते चलें कि अलका राय के पति कृष्णानंद राय 2002 में मुख्तार अंसारी के सबसे बड़े भाई अफजाल अंसारी को मुहम्दाबाद सीट पर हराया था।इस सीट पर 1985 से अफजाल अंसारी निरंतर विधायक निर्वाचित होते आ रहे थे।कृष्णानंद राय की साल 2005 में हत्या कर दी गयी थी।इस मर्डर के समय मुख्तार अंसारी किसी अन्य मामले में जेल में बंद थे।लेकिन इस मर्डर का मास्टरमाइंड मुख्तार को ही माना गया।हालांकि, इस मामले में मुख्तार और उनके अन्य सहयोगियों को सीबीआई ने इस मर्डर केस में क्लीन चिट दे दिया था।
वर्तमान में मुख्तार के सबसे बड़े भाई सिबगतुल्लाह अंसारी इस विधानसभा सीट पर एसपी के सिंबल पर चुनाव लड़ रहे है।

Prime Time: भाजपा के चक्रव्यूह में मोहम्दाबाद! अंसारी परिवार के गढ़ में लगा सेंध? Mukhtar Ansari

अलका राय ने मीडिया से आगे बात करते हुए दावा किया कि उन्हें सभी जातियों और धर्मों का समर्थन हासिल है। अलका राय ने दावा किया कि वह 2017 के विधानसभा चुनाव में 1,30000 वोटों से विजय हुई थी ,इस बार यह अंतर डेढ़ लाख तक बढ़ जाएगा। प्रदेश और केंद्र में भाजपा की सरकार है।दोनों सरकारों ने भय और भूख मुक्त समाज और जन कल्याणकारी योजनाओं को लागू किया है।प्रदेश के लोग सरकार की उपलब्धियों से प्रसन्न है।आने वाले दिनों में प्रदेश में एक बार फिर सरकार योगी सरकार को जनादेश मिलेगा।

Leave a Reply

error: Content is protected !!