गाज़ीपुर। रविवार को आरटीआई मैदान में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन हुआ इस कार्यक्रम में प्रशासन की घोर लापरवाही देखने को मिली। कार्यक्रम में मौजूद लोगों का आरोप था कि उनके पास ना कलश है ना सिंदूर है। तुम्हारी टी रिवाजों के अनुसार कैसे विवाह संपन्न करें? तुम ही कुछ लोगों का कहना था कि वह पुनः घर जाकर हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार विवाह को संपन्न करेंगे। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम के लिए जिला प्रशासन ने एक आमंत्रण कार्ड जारी किया था लेकिन उस आमंत्रण कार्ड में सैदपुर के विधायक सुभाष पासी का नाम नहीं था। सैदपुर के विधायक सुभाष पासी पहले समाजवादी पार्टी में थे लेकिन अभी उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ले ली है। वही आमंत्रण कार्ड में भारतीय जनता पार्टी के समस्त विधायक एमएलसी और मंत्री का नाम था लेकिन विधायक सुभाष पासी का नाम ना होना चर्चा का विषय बन गया। पता करने पर पता चला कि यह प्रशासनिक चूक है। वही इस कार्यक्रम के बीच में से प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला अचानक चले गए। लोगों का कहना था कि व्यवस्था से नाराज होकर वह चले गए हैं। इस बाबत जब अधिकारी से सवाल पूछा गया तो उन्होंने अनभिज्ञता जताई। वह इस कार्यक्रम की दुर्व्यवस्था पर सवाल पूछने पर विधायक सुभाष पासी ने कहा कि कार्यक्रम में 19-20 हो सकती है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!