Apna Uttar Pradesh

गाज़ीपुर: बीच रास्ते में गिरा 300 सेकंड में 300 बेड वाले अस्पताल का….?ABT ने खोली पोल, मचा बवाल?

गाजीपुर शहर कोतवाली के गोराबाजार स्थित सीएमओ कार्यालय परिसर में निर्माणाधीन 300 बेड के राजकीय मेडिकल कालेज की शटरिंग बुधवार की देर शाम भर-भराकर गिर गई। घटना में तीन मजदूरों को हल्की-फुल्की चोटें आई हैं।

संयोग रहा कि उस दौरान कोई वाहन या अन्य लोग सड़क पर मौजूद नहीं थे। उधर, काम कर रहे मजदूर बिहार प्रांत के मनोज राम सहित दो को हल्की चोटें आई। इससे कुछ देर तक मार्ग अवरुद्ध होने से जिला अस्पताल आने वाले वाहनों को मार्ग बदलकर जाना पड़ा।

सीएमओ डॉ जीसी मौर्या ने बताया कि हादसे में कोई घायल नहीं हुआ है। तीन मजदूरों को हल्की चोटें आई हैं।

आरटीआइ मैदान में बन रहे मेडिकल कालेज के लिए सीएमओ कार्यालय के ठीक सामने स्थित मलेरिया विभाग के भवन को तोड़कर 300 बेड का अस्पताल बन रहा है। नौ मंजिल वाले इस भवन के निर्माण की लागत लगभग 100 करोड़ रुपये है। इसके पिलर का निर्माण आधा से अधिक हो चुका है। छत व पोर्च ढलाई के लिए कई दिन से सैटरिग लगाई जा रही थी। बुधवार अस्पताल के प्रवेश द्वार पर पोर्च की ढलाई हुई और इसके बाद सारे मजदूर वहां से चले गए। इसकी सैटरिंग जिला अस्पताल की ओर जाने वाले आधे रास्ते पर बनाई गई थी। अस्पताल जाने वाले वाहन काफी बचकर इससे निकल रहे थे। चर्चा है कि निर्माण की गुणवत्ता खराब होने से यह हादसा हुआ है लेकिन निर्माण इकाई के अधिकारी इन आरोपों को सिरे से खारिज कर रहे हैं।

नहीं बंद किया गया था रास्ता

– इस निर्माणाधीन अस्पताल के ठीक पास से ही जिला अस्पताल को रास्ता जाता है। इस पर पूरे दिन लोगों का पैदल व वाहनों से आनाजाना होता है। रात को भी यह रास्ता चलता रहता है। जो सैटरिग गिरी है वह आधा इस रास्ते पर ही खड़ी की गई थी। इससे वाहनों व एंबुलेंस के आने-जाने के लिए काफी कम जगह बची हुई थी। निर्माण इकाई को इस रास्ते को ढलाई होने तक बंद कर देना चाहिए लेकिन उसने ऐसा नहीं किया।

पोर्च की ढलाई कर मजदूर वहां से हट गए थे। इसके काफी देर बाद उस रास्ते से कोई वाहन अस्पताल की ओर जा रहा था। उसका चालक नशे में था। हमारे गार्ड ने उसे जाने से मना किया लेकिन वह नहीं माना। उसके वाहन से सैटरिंग को धक्का लग गया, जिससे वह गिर गई। उस रास्ते पर आवागमन करने से मना किया जा रहा था लेकिन कोई मानने को तैयार नहीं था। रात को ही मलबा हटाकर पुन: ढलाई करने की कोशिश हो रही है। – पीएन सिंह, प्रोजेक्ट मैनेजर, राजकीय निर्माण निगम-आजमगढ़।

हम अपने कार्यालय में बैठे थे, तभी निर्माणाधीन मेडिकल कालेज की सैटरिग गिरने की सूचना मिली। हम लोग तत्काल मौके पर पहुंच गए लेकिन संयोग ठीक था कि उस समय कोई वहां मौजूद नहीं था। अगर नीचे कोई रहता तो वाराणसी में गिरे फ्लाईओवर जैसा हाल होता। निर्माण इकाई को पांच-छह दिन के लिए इस रास्ते को बंद करवा देना चाहिए था। काम पूरा होने के बाद खुलता। यह कैसे गिरी, उसके अधिकारी भी मौके पर पहुंच कर इसकी जांच-पड़ताल कर रहे हैं। – डा. जीसी मौर्या, सीएमओ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s