संवाददाता शैलेंद्र शर्मा

आज़मगढ़। मामला है आजमगढ़ के अतरौलिया ब्लॉक के ध्यानी पुर गांव का जहां ग्रामीणों ने गाँव के कोटेदार के खिलाफ आवाज उठाई है और जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया है आपको बता दें कि ग्रामीणों का आरोप है कि कोटेदार द्वारा प्रत्येक कार्ड धारक से 3 से 4 किलो की कटौती की जा रही है साथ ही अन्य गुणकारी खाद्यान्न की भी कटौती की जा रही है ग्रामीणों का कहना है की सप्लाई स्पेक्टर की मिलीभगत से कोटेदार मनमाने ढंग से कोटा चला रहे हैं और ग्रामीणों की शिकायत के बाद भी कोटेदार पर कोई कार्रवाई नहीं होती है इतना ही नहीं कोटेदार से जब ग्रामीण सवाल करते हैं कि राशन में कटौती क्यों हो रही है तो कोटेदार धमकी भरे स्वर में कहते हैं कि जिसको जो करना है जाकर करें जब हमें कम ही मिल रहा तो हम पुरा वितरण कैसे करें ऐसे में सवाल उठता है कि क्या कोटेदार को गांव वालों को वितरित करने के लिए विभाग द्वारा राशन नहीं मिल रहा या फिर कोटेदार भ्रष्टाचार में लिप्त है अब देखने वाली बात यह होगी कि संबंधित अधिकारी इस मामले में जांच कर क्या ग्रामीणों को इस समस्या से निजाद दिलाते हैं या नहीं।

Leave a Reply