अभिनेंद्र/ब्यूरो रिपोर्ट। प्रवासी मजदूर जैसे जैसे बड़े शहरों से अपने गांव की ओर रुख कर रहे हैं, वैसे वैसे कोरोना संक्रमण का प्रकोप अब गांव में फैलता जा रहा है। खैर प्रवासी मजदूरों को यह कहां पता की संक्रमण ने उन्हें अपनी चपेट में लिया हुआ है, वह तो बेचारे अपने परिवार का पेट पालने के लिए गैर जनपदों व शहरों में काम कर रहे थे कि अचानक लॉक डाउन की घोषणा हो गई और वह घबरा गए। कोई गाइडलाइन की पूर्ण रूप से जानकारी ना होने के कारण शायद वह कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए।

अब बढ़ती दुर्व्यवहार के बीच वह धीरे-धीरे पैदल, ट्रक, साइकिल या नसीब अच्छा हो तो बस और ट्रेन से अपने गांव की ओर पहुंच रहे हैं। बहुत जगहों पर उन मजदूरों की थर्मल स्कैनिंग कर, कर उन्हें छोड़ दिया जा रहा है।

जानकारी की कमी या जागरूकता ना होने के कारण वह घरों में रहने की वजह घर से बाहर निकल कर दूसरे लोगों के संपर्क में आ रहे हैं, अब उत्तर प्रदेश का जनपद गाजीपुर भी इससे अछूता नहीं रहा और गुरुवार को गाजीपुर में कोरोना संक्रमण के 65 मामले सामने आ चुके हैं।

जनपद के सैदपुर,मनिहारी व मोहम्दाबाद में बृहस्पतिवार को 11 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इतनी बड़ी संख्या में प्रवासियों के संक्रमित मिलने के कारण इन्हें लेकर गांवों से शहरी इलाके तक दहशत फैली है। अधिकारियों ने लोगों को संयम और सावधानियां बरतने की एक बार फिर सलाह दी है।

नए पॉजिटिव मरीजों में आठ लोग सैदपुर, दो मनिहारी व एक मोहम्मदाबाद का मामला है। नए मरीजों में ज्यादातर महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली से गाजीपुर लौटे हैं।

Leave a Reply

error: Content is protected !!