संवाददाता वीरेन्द्र सिंह

आज़मग। बताते चले की जनपद अमेठी के मोहनगज शिवरतनगज थाना क्षेत्र के अन्तर्गत घटनाओ का अम्बार लगा है। देखा जाये तो मोहनगज के अन्तर्गत मारपीट एक सप्ताह के अन्दर दर्जनो मामला आये है। लीपापोती करने मे माहिर वह वाह वाही लेना मे आगे मोहनगज पुलिस के कार्यनामा से सभी लोग वाकिब है । जो कि हाल मे ही आये साफ छवि वाले थानाध्यक्ष तक मामला पहुचने से पहले ही ही लम्बे आर्शे से तैनात स्टाप के लोग मिल कर ही मामले को रफा दफा कर देते है। गरीब पीडित को उचित न्याय नही मिल पा रहा है। कुछ ऐसा ही एक मामला प्रकाश मे आया है राजकुमार पुत्र श्यामलाल निवासी भेलाई को उपरोक्त ग्राम निवासी दबगो ने 5 दिन पूर्व बुरी तरह लाठी डण्डे से जमकर मारा बीच बचाव मे आई पत्नी मासूम बच्चों को भी बुरी तरह पीटा रामकुमार को मरणास्न मे छोडकर हमलावार मौके से फरार हो गये। सूचना मिलते ही मौके पर 112डायल नम्बर पुलिस पहुंच कर घायल हालत मे उसके बेटे से ही अस्पताल पहुताया। जहा राजकुमार की हालत गम्भीर देख डाक्टरो ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया।ज़िन्दगी मौत के बीच जूझ रहा घायल गरीब रामकुमार ने होश आने पर चार लोगो को नामजद करते हुये लिखित तहरीर व हल्का एसआई से मौखिक बयान भी दिया। खूनसे लहूलुहान फैक्चर मासूम बच्चों के आसू पर भी नही आई पुलिस को रहम। अपराधियों के सांठ गांठ करने मे माहिर मोहनगज पुलिस ने आखिर अपना काम कर ही लिया। पीडित की दी हुई लिखित तहरीर को बन्द बक्से मे डालकर अपने मनमाफिक चार के जगह पर दो नाम डालकर मामूली सी धाराओ मे मुकदमा पजिकृत करके के। गरीब की हाय व अपराधियों की दुआ को प्यार से काबूल कर ही लिया। रामकुमार की हालत मे न सुधार देख उसे निजी हास्पिटल से चल रहा इलाज पत्नी घायल पति को लेकर उच्चधिकारियो ये लगायेगी न्याय की गुहार। बेख़ौफ निडर दबंग खुलेआम घूम रहे है। सईया होये कोतवाल तो डर काहे का। ये कहावत सार्थक हो रही है मोहनगज पुलिस पर।

Leave a Reply