ब्यूरो डेस्क | यस बैंक मामला में व्यवसायी कपिल वधावन और धीरज वधावन को CBI की विशेष अदालत ने 10 मई तक के लिए CBI की हिरासत में भेजा है। गौरतलब है कि यस बैंक के पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर रवनीत गिल ने एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) को बताया है कि राणा कपूर ने नियमों की अनदेखी करते हुए रियल्टी कंपनी दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (DHFL) को लोन दिया है। इस लोन की वजह से ही यस बैंक पर बैड लोन का बोझ बढ़ा और बैंक धराशायी हो गया। राणा कपूर के हटने के बाद ही रवनीत गिल को यस बैंक का मैनेजिंग डायरेक्टर बनाया गया था।

जानकारी के अनुसार यस बैंक ने  Belief Realtor Pvt. Ltd को 750 करोड़ रुपए का लोन पास किया था। यह DHFL ग्रुप की ही कंपनी है। DHFL ग्रुप को धीरज वाधवन और कपिल वाधवन चलाते हैं। राणा कपूर की अगुवाई में यस बैंक के मैनेजमेंट क्रेडिट कमिटी (MCC) ने 750 करोड़ रुपए का यह लोन 18 जून  2018 को पास किया था।

ED ने 6 मई को राणा कपूर उनकी पत्नी और बेटियों के खिलाफ मुंबई के स्पेशल PMLA कोर्ट में स्कैम से जुड़े मामले में चार्जशीट दायर की है। राणा कपूर को ED ने 8 मार्च को गिरफ्तार किया था। अभी वह न्यायिक हिरासत में हैं।

Leave a Reply