रोज़ की कमाई से अपना घर चलाने वाले लोगो पर लॉकडॉउन के कारण आफत आ गई है। और साथ ही कई संस्थानों के बंद होने से मजदूरों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बता दे कि मंगलवार को एसीएस, गृह और सूचना, एक प्रेस कॉन्फ्रेंस देते हुए, अवनीश अवस्थी ने कहा कि “एक्सप्रेसवे परियोजनाओं का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। पूर्वांचल और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे के माध्यम से लगभग 8,500 लोगों को रोजगार प्रदान किया गया है, जिसमें 7,500 मजदूर और 1,000 अन्य कर्मचारी शामिल हैं।
उन्होंने आगे कहा कि ” 23 अस्थायी जेलों में कैदियों का मेडिकल परीक्षण किया जा रहा है और आवश्यकता के अनुसार उन्हें छोड़ दिया गया है। यूपी भवन और अन्य निर्माण कामगार कल्याण बोर्ड की श्रमिक रखरखाव योजना के तहत निर्माण कार्य से जुड़े, शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के 25.79 लाख श्रमिकों और निराश्रित व्यक्तियों को कुल और 1-1 हजार का भुगतान किया गया है। राज्य की 39,520 औद्योगिक इकाइयों से संपर्क किया गया था, जिनमें से 38,919 इकाइयों ने अपने श्रमिकों को लगभग 5 570.15 करोड़ का वेतन दिया है।

Leave a Reply