ब्यूरो डेस्क | कोरोना संक्रमण कि रोकथाम के लिए केंद्र व राज्य सरकारें लगातार काम कर रही हैं. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि “केंद्र सरकार का कहना है कि जो हॉट स्पॉट और कंटेनमेंट ज़ोन हैं उनमें ढील फिलहाल नहीं दी जानी चाहिए। दिल्ली में 11 जिले हैं और 11 के 11​ जिले हॉट स्पॉट घोषित किए गए हैं। केंद्र सरकार के मुताबिक कंटेनमेंट ज़ोन में ढील नहीं दी जा सकती.”

उन्होंने आगे कहा कि “आज की तारीख में दिल्ली में 77 कंटेनमेंट ज़ोन हैं। दिल्ली में कोरोना तेजी से फैल रहा है, लेकिन अभी स्थिति नियंत्रण के बाहर नहीं है। आज दिल्ली में 1,893 केस हैं इनमें से 26 ICU में हैं और 6 वेंटिलेटर पर हैं. दिल्ली में पूरे देश की 2 प्रतिशत जनसंख्या रहती है लेकिन पूरे देश में कोरोना के जितने मामले हैं उसके 12 प्रतिशत दिल्ली में हैं। सबसे ज्यादा मार दिल्ली को झेलनी पड़ी.”

उन्होंने महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए कहा कि “अपने दिल्ली​वासियों की ज़िंदगी का ख्याल रखते हुए हमने फैसला लिया है कि फिलहाल लॉकडाउन की शर्तों में कोई ढिलाई नहीं दी जाएगी। एक हफ्ते बाद हम दोबारा विशेषज्ञों के साथ बैठकर इसका मूल्यांकन करेंगे और जरूरत पड़ी तो ढिलाई दे सकते हैं. कल हमारे पास 736 टेस्ट की रिपोर्ट आई, उनमें से 186 कोरोना के मरीज़ निकले। इन 186 मरीज़ों में से किसी को कोरोना के लक्षण नहीं थे.”

उन्होंने बताया कि “एक व्यक्ति से हमने बात की उसने बताया: मैं दिल्ली सरकार के एक फूड सेंटर में रोज खाना बटवा रहा था। मैंने उस सेंटर में आने वाले लोगों की रैपिड टेस्टिंग के आदेश दिए हैं।दिल्ली में हमारे जितने भी फूड सेंटर हैं उन सब में कर्मचारियों,स्वयंसेवकों की रैपिड टेस्टिंग कराएंगे.”

 

Leave a Reply