ब्यूरो डेस्क | कोरोना संक्रमण एक खतरनाक बीमारी है, रोज कोरोना संक्रमण से जुड़ी खबरें आ रही हैं और प्रति दिन कोरोना संक्रमण के नये मामले भी देश मे आ रहे हैं. चीन में दिसम्बर से चर्चाओं में आया कोरोना संक्रमण ने 30 जनवरी भारत में दस्तक दे दिया उसके बाद 31 जनवरी को WHO ने इसे विश्वस्तरीय इमरजेंसी बताया, भारत सहित तमाम देशों को आगाह किया, लेकिन 30 जनवरी के कई दिन बाद तक भी देश का सरकारी तंत्र मौन था. देश में महत्वपूर्ण चीजें, नागरिकता संसोधन कानून, दिल्ली चुनाव में बयां बाजियां, दिल्ली में दंगा और मध्य प्रदेश में सत्ता बदलना था. सरकारी तंत्र का मौन व्रत टूटने तक देश में 40 से ज्यादा कोरोना संक्रमण के केस आ चुके थे. खैर क्या फायदा इतनी कहानियां सुनाने का, जब हमारे देश कि मेन स्ट्रीम मीडिया ने ही वास्तविक सवाल पूछना बंद कर दिया है.

अब देश कि स्थिति वर्तमान समय में काफी आगे बढ़ चुकी है. 12974 कोरोना संक्रमण केस हैं और अब तक 507 मौतें हो चुकीं हैं. हमारे काबिल डॉक्टर, सफाई कर्मी, पुलिस कर्मी और निष्पक्ष मीडिया कर्मियों के देश प्रति इमानदारी के चलते हमारे देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ने कि रफ़्तार कम हुई है और 2230 लोग ठीक भी हो चुकें हैं.

ताजा मामला आपको भावुक कर सकता है. मामला दिल्ली से है. जहाँ लेडी हार्डिंग अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में सांस की बीमारी के इलाज के लिए लाए गए एक 10 महीने के बच्चे का COVID19 टेस्ट पॉजिटिव पाया गया है। पिता का भी कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है,मां की टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार है।बाल चिकित्सा ICU को सेनिटाइज किया जा रहा है.

लेडी हार्डिंग अस्पताल के 2 डॉक्टरों और 6 नर्सों का भी COVID19 टेस्ट पॉजिटिव आया है। अस्पताल के अधिकारियों ने सभी 8 स्वास्थ्य कर्मचारियों को क्वारंटाइन कर दिया है।उनके कॉन्टेक्ट्स की ट्रेसिंग जारी है।अस्पताल के अधिकारी कंटेनमेंट प्लान के लिए बैठक कर रहे हैं.

चाहे लापरवाही किसी कि हो, लेकिन अब जरुरत है घरों में रहने की, भीड़ से बचने की सोशल डिस्टेंस बनाये रखने की, बार बार हाथ धोने की, अल्कोहल युक्त सैनेटाइज़र प्रयोग करने की और सर्दी, खांसी, बुखार होने पर डॉक्टर से संपर्क करने की. तो आप लापरवाही न बरते और समझदार बने. कोरोना को हराना ही हमारा लक्ष्य है.

Leave a Reply